Bekarari… -Dr. Km Vishwas

बेक़रारी सी बेक़रारी है ,
वस्ल हैं और फिराक तारी है 
जो गुज़ारी न जा सकी हम से 
हम ने वो ज़िन्दगी गुज़ारी है 
बिन तुम्हारे कभी नहीं आई 
क्या मेरी नीँद भी तुम्हारी है ?
उस से कहियो की दिल की गालियों में 
रात-दिन तेरी इंतजारी है..

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s